Bharat Ki Rajvyavastha – सिविल सेवा इवाम अन्या राज्य परीक्षो हेटु | छठा संस्करण


Price: ₹ 450.00
(as of Mar 18,2020 18:09:03 UTC – Details)


प्रस्तुत पुस्तक – “भारत की राजव्यवस्था” सिविल सेवा की परीक्षाओं के अतिरिक्त अन्य सभी राज्यों की परीक्षाओं की अभ्यर्थियों द्वारा निश्चित रूप से जारी की जाती है। इस पुस्तक में विषय वस्तुओं को वृहद और विस्तार रूप से परिष्कृत समसामयिक मुद्दों के साथ इस प्रकार प्रस्तुत किया गया है ताकि यह स्नातक और शैक्षिक छात्रों, शोध ध्येतों, शैक्षिक विशेषज्ञों की आवश्यकताओं को पूरा करने में अपना अत्यंत महत्वपूर्ण योगदान दे सके और सामान्य भाषाएं जो देश की राजनैतिक, नागरिक और संवैधानिक मुद्दों / मामलों की जानकारी में रूचि रखते हैं, के लिए बहुत उप ोगी साबित हो सके। इस संस्करण में छः नए मुख्य अध्यायों को शामिल किया गया है। इन प्रदत्त सभी अध्यायों को नवीन आंकड़ों और घटनाओं के आधार पर संशोधित और परिवर्द्धित किया गया है।

मुख्य आकर्षण:

1. 80 अध्यायों और 16 परिशिष्टों को समाविष्ट करते हुए भारतीय राजव्यवस्था और संवैधानिक क्रियाकलापों का पूर्ण विधान

2. परीक्षा के अद्यतन पाठ्यक्रम के अनुसार अध्यायों का पुनर्मूल्यांकन

3. जम्मू एवं कश्मीर और लद्दाख पर हाल ही में हुए विकास, संवैधानिक व्याख्या, न्यायिक सक्रियता / सक्रियतावाद और न्यायिक समीक्षा का पूर्ण विश्लेषण

4. सिविल सेवा की प्रारंभिक और मुख्य परीक्षाओं के संशोधित पूर्व वर्षों के प्रश्न और उनपर आधारित प्रैक्टिस प्रश्नों का उचित समायोजन

5. सिविल सेवा, विधि, राजनीति विज्ञान और लोक प्रशासन के विधायकों के लिए उपयुक्त स्टॉप सोलुशन

6. छ: नव अध्याय:

वस्तु और सेवा कर परिषद

राष्ट्रीय पिछड़ा वर्ग आयोग

राष्ट्रीय योग्यता

राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन

क्षेत्रीय दलों की कार्य प्रणाली

साझा / गठबंधन सरकार



एम। लक्ष्मीकांत ने हैदराबाद स्थित उस्मानिया विश्वविद्यालय से राजनीति विज्ञान में स्नातक की डिग्री हासिल की है और उनके पास सिविल सेवा के अभ्यर्थियों को दशकों से पढ़ाने का अनुभव भी प्राप्त है। इनहोनें अभी तक भारतीय राजव्यवस्था, शासन और लोक प्रशासन विषयों को विभिन्न प्रकार की पुस्तकों की रचना की है।]



SHARE ON

Are you Interested in doing Job Oriented Professional Courses? Fill in your details below and we will connect you with the best available Institute.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*